केरोसिन तेल से क्‍यों नहीं चलती कारें? केवल डीजल और पेट्रोल से क्यों चलती है? कारें केरोसिन से नहीं चलाई जा सकती है……

Why Dont Cars Run on Kerosene Oil : आपकी जानकारी के लिए हम आपको यह बता दें कि डीजल और पेट्रोल के बीच का मुख्य अंतर उनका ज्वलन तापमान होता है | डीजल का ज्वलन तापमान पेट्रोल से अधिक होता है इसलिए इंजन को चलाने के लिए डीजल का अत्यधिक तापमान की आवश्यकता होती है तथा केरोसिन का ज्वलन तापमान डीजल के समान होता है लेकिन यह पेट्रोल से कम होता है इसलिए केरोसिन को डीजल इंजन में चलने के लिए पर्याप्त तापमान नहीं मिल पाते हैं

Why Dont Cars Run on Kerosene Oil
Why Dont Cars Run on Kerosene Oil

Read Also :- Hero Electric Vehicle मात्र 3 मिनट में बदल जाएगा? थ्री-व्हीलर में…..

यदि आपसे कर की टंकी में गलती से की रोशनी तेल भर जाए तो और आप कार चलाने की कोशिश करते हैं तो इंजन को नुकसान पहुंच सकता है | ऐसे में केरोसिन को जलाने के लिए पर्याप्त तापमान ना मिलने के कारण इंजन में दहन नहीं हो पाएगा और इंजन में कंपन और शोर हो सकता है | तथा आपके इंजन में पिस्टन और सिलेंडर को भी नुकसान पहुंच सकता है इसलिए आप केरोसिन तेल का प्रयोग वाहन चलाने के लिए नहीं कर सकते हैं |

Read Also :- Thar Scorpio Fortuner पर क्यों लिखा होता है? 4X4 इसका मतलब क्या होता है? इसके क्या-क्या फायदे हैं…….

केरोसिन तेल और पेट्रोल में क्या अंतर है?

अगर आपकी रोशनी तेल और पेट्रोल के बीच के अंतर को जानना चाहते हैं तो इसके अंतर की जानकारी आपको विस्तार पूर्वक बताई गई है –

केरोसिन तेल और पेट्रोल दोनों ही हाइड्रोकार्बन है लेकिन इनमें कुछ महत्वपूर्ण अंतर भी देखे जा सकते हैं, की रोशनी तेल का क्वथनांक पेट्रोल से अधिक होता है? जिसका साफ अर्थ होता है कि इसे गर्म करने के लिए अधिक तापमान की आवश्यकता होती है | केरोसिन तेल का ज्वलन तापमान भी पेट्रोल से अधिक होता है जिसका अर्थ है कि यह आग पकड़ने में अधिक कठिनाई का सामना करना पड़ता है | की रोशनी तेल में पेट्रोल की तुलना में कम वाष्पशीलता होती है | जिसका साफ-साफ अर्थ होता है कि यह कम मात्रा में वस्तु बनाते हैं |

Read Also :- Kinetic Luna मात्र ₹500 में प्री-बुकिंग शुरू इलेक्ट्रिक स्कूटर, कीमत ₹71,990 रुपए नए लुक और फीचर्स से भरपूर……

केरोसिन तेल से कारें क्यों नहीं चलती हैं?

कार के इंजन को ठीक से काम करने के लिए ईंधन को इंजन के अंदर वाष्पीकृत होना चाहिए | पेट्रोल की वाष्पशीलता केरोसिन तेल की तुलना में अधिक होती है, जिसका अर्थ है कि यह इंजन के अंदर अधिक आसानी से वाष्पीकृत हो जाता है | केरोसिन तेल की कम वाष्पशीलता के कारण, यह इंजन के अंदर पर्याप्त मात्रा में वाष्प नहीं बना पाता है? जिससे इंजन ठीक से काम नहीं कर पाता है |

Read Also :- New OLA Electric Scooter धाकड़ लुक और कीमत की जानकारी प्राप्त कर झूम उठेंगे ग्राहक !!!!

अगर गलती से केरोसिन तेल डाल दिया जाए तो क्या होगा?

अगर आपकी कार में गलती से केरोसिन तेल डाल दिया जाए तो कार को चलाने का प्रयास न बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए? केरोसिन तेल इंजन के अंदर पर्याप्त मात्रा में वाष्प नहीं बना पाएगा? जिससे इंजन में आग लगने का खतरा रहता है |

Read Also :- Hero Spelndor New Look Sports Edition कैसे कमेंट में जानिए कीमत और फीचर्स की जानकारी……..

गलती से केरोसिन तेल डालने पर क्या करना चाहिए?

अगर आपसे गलती से कर की टंकी में केरोसिन तेल भर जाए तो आप तुरंत टंकी को खाली करवाई जिसके लिए आपके कार सर्विस सेंटर जाना होगा | जहां पर आप सर्विस केंद्र पर अपने गलती को बताना होगा, और मैकेनिक आपका काम कुछ घंटे में कर देगा | तथा फिर आप अपने गाड़ी को चला सकते हैं और इसका उपयोग कर सकते हैं |

Read Also :- New Renault Duster हुआ लॉन्च, Renault की ये पॉवरफुल SUV के फ़ीचर्स और क़ीमत आपके होश उड़ा देंगे……..

कंप्रेस्ड नेचुरल गैस (CNG) से कारें क्यों चलती हैं?

CNG एक गैसीय ईंधन है जो पेट्रोल या डीजल की तुलना में अधिक कुशल है | CNG में पेट्रोल या डीजल की तुलना में कम कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन होता है | CNG के ज्वलन तापमान भी पेट्रोल या डीजल से कम होते हैं, जिसका अर्थ है कि यह आग पकड़ने में अधिक कठिन होता है |

ऐसे में आप सभी उम्मीदवार CNG व्हीकल को चला सकते हैं? तथा इसके कुछ फायदे भी हैं जैसे – CNG एक अधिक कुशल ईंधन है? जिसका अर्थ पेट्रोल या डीजल की तुलना में कम ईंधन की खपत करता है, CNG में पेट्रोल या डीजल की तुलना में कम कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन करता है, CNG के ज्वलन तापमान भी पेट्रोल या डीजल से कम होते हैं | जिसका अर्थ है कि इससे आंख पकड़ने में अधिक कठिन होता है |

Read Also :- New TVS Apache RTR 160 सिर्फ 15,000 में घर ले आए? स्मार्ट टेक्नोलॉजी के साथ 65kmpl का माइलेज…….

लेकिन CNG व्हीकल चलाने के कुछ नुकसान भी होते हैं जो कुछ इस प्रकार से दिखाए गए हैं –

  1. CNG के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए इंजन की आवश्यकता होती है,
  2. CNG स्टेशनों की संख्या पेट्रोल पंपों की तुलना में कम होती है,
  3. CNG की कीमत पेट्रोल या डीजल की तुलना में अधिक हो सकती है,

Note :- ऊपर दी गई जानकारी इंटरनेट से ली गई है? amritbrikhaandolanapp.com इसकी पुष्टी नहीं करता है | जैसे ही कंपनी के द्वारा कोई जानकारी दी जाती है | वैसे-वैसे हम आपको अपडेट्स देते रहेंगे |

Read Also :- Hyundai Creta N Line नई लुक और ADAS फीचर्स के साथ लॉन्च, सेल्टोस और विटारा को देगी टक्कर !!!!

Join TelegramClick Here
Join WhatsApp GroupClick Here

निष्कर्ष :-

यदि आप इसी प्रकार से जुड़ी और भी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं? तो आपको इससे जुड़ी और भी अधिक जानकारी इसी आर्टिकल के माध्यम से आप तक पहुंचाया जाएगा | यदि आप इसी प्रकार से जुड़े महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते रहते हैं तो आप सभी इस पोस्ट को लाइक करें तथा शेयर करना ना भूले |

Read Also :-

Leave a Comment

x